सरकार ने किया आग्रह, सिख दंगों की जांच के लिए बनाई गई SIT में राजदीप सिंह की जगह नवनीत राजन को किया जाए शामिल

  • February 6, 2018
Share:

सुप्रीम कोर्ट ने 1984 सिख विरोधी दंगे के 186 केस को फिर से खोलने का आदेश देते हुए नए सिरे से SIT बनाई है. इसको लेकर सरकार चाहती है कि गठित तीन सदस्यों की जांच समीति में पूर्व महानिदेशक स्तर के अधिकारी नवनीत राजन वासन को भी शामिल किया जाए.

सरकार ने अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि वह आईजी स्तर के अधिकारी राजदीप सिंह की जगह नवनीत वासन को शामिल करना चाहती हैं. आप को बता दें कि इस SIT की अध्यक्षता दिल्ली हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश शिव नारायण ढींगरा कर रहे हैं. ढींगरा की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय विशेष जांच दल का गठन किया गया था. इस SIT में ढींगरा के अलावा हिमाचल कैडर के 2006 बैच के आईपीएस अभिषेक दुलर और सेवानिवृत्त आईपीएस राजदीप सिंह भी शामिल है. ये  SIT दो महीने में सुप्रीम कोर्ट में अपनी रिपोर्ट देगी.

इससे पहले मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस केपीएस राधाशरण और जस्टिस जेएम पांचाल की पर्यवेक्षी समिति ने पहली SIT द्वारा  की तरफ से की गई जांच पर सुप्रीम कोर्ट को अपनी रिपोर्ट दे दी थी. सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी का गठन करने का आदेश देते हुए कहा था कि SIT में हाई कोर्ट के एक रिटायर्ड जज, एक रिटायर्ड IPS अफसर और एक सेवारत IPS अफसर को शामिल किया जाए. अब बनाई गई नीई SIT बंद किए किए गए 186 केसों का फिर से जांच करेगी और फिर सुप्रीम कोर्ट को अपनी रिपोर्ट देगी.

आप को बता दें कि पुरानी एसआईटी ने 1984 में हुए सिख विरोधी दंगे मामले में दर्ज 294 केस में से 186 को बिना किसी जांच के बंद कर दिया था, जिस पर आपत्ति जाहिर की गई थी.

Tags


Comments

Leave A comment