अमरोहा में ईमानदारी की मिसाल, शौचालय निर्माण की राशि अपात्र कहकर लौटाई

  • March 3, 2018
Share:

अमरोहा।

आपने अक्सर सरकारी और गैर सरकारी धन को फर्जीवाड़ा करके हथियाने के कई मामले देखे और सुने होंगे पर उत्तर प्रदेश के अमरोहा जनपद में एक ऐसा ईमानदार नागरिक सबके लिए आज मिसाल बन चुका है जिसने उसके खाते में शौचालय निर्माण को आई मगर उसने सरकारी धनराशि को ये कहकर वापिस लौटा दिया कि वो अपात्र है और उसे शौचालय की जरूरत नहीं है क्योकि उसके घर में शौचालय बना हुआ है।

दरअसल अमरोहा जनपद के हसनपुर तहसील इलाके के गांव भटोला के निवासी किसान समरपाल सिंह के खाते में स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत शौचालय बनाने के लिए धनराशि पहुंची। जिसकी जानकारी मिलते ही किसान समरपाल सिंह ने खुद को अपात्र बताते हुए शौचालय निर्माण के लिए आयी रकम को वापिस करवाकर पात्र व्यक्ति को दिए जाने की सिफारिश की बात ग्राम प्रधान निगम सिंह से की। लेकिन ग्राम प्रधान ने अनसुना कर दिया।

उधर, सरकारी धन को सही जगह पहुंचाने की कसम खा चुके समरपाल सिंह ने उच्च अधिकारिओ से बात करके अपने खाते में आयी रकम को वापिस लेने की गुहार लगाई और इससे संबंधित शपथ पत्र गंगेश्वरी ब्लॉक के खंड विकास अधिकारी को सौंपा।

किसान समरपाल सिंह द्वारा शौचालय निर्माण को गलत तरिके से आयी धनराशि को वापिस लिए जाने की गुहार लगाने की खबर मिलते ही समरपाल सिंह लोगो के लिए मिसाल बन गए और अब दूर दूर के लोग समरपाल की ईमानदारी को ना सिर्फ सलाम कर रहे हैं बल्कि समरपाल सिंह की इस मुहीम से साफ़ उजागर हुआ है कि किस तरह से अधिकारी और कर्मचारी व ग्राम प्रधान मिलकर प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत मिशन को चूना लगा रहे हैं क्योकि जिन लोगो को वास्तव में जरूरत होती है उन्हें ये सहायता मिल नहीं पाती और अपात्र होते हैं खाते में आसानी से सरकारी रकम पहुंच जाती है।

दूसरी तरफ इस मामले में ग्राम प्रधान निगम सिंह भी अपनी गैर जिम्मेदाराना हरकत को भूलकर समरपाल सिंह की तारीफ करते नजर आये और समरपाल सिंह को पात्र मानते हुए कहा की मैंने लाभार्थी के खाते में पैसे डाले पर उन्होंने लोटा दिए ये बहुत बढ़िया बात है क्योकि आज के दौर में पैसे वाला भी चाहता है कि उसे पैसा मिल जाए।

विनीत कुमार की रिपोर्ट

Tags


Comments

Leave A comment