चुनाव आयोग ने फैसला लेने में की देरी, 1 महीने पहले उठाते कदम तो आप टूट जाती- अजय माकन

  • January 21, 2018
Share:

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रविवार को चुनाव आयोग की सिफारिश मंजूर कर ली है. यानि आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों की सदस्यता खत्म हो गई है. चुनाव आयोग ने शुक्रवार को दिल्ली सरकार के 20 विधायकों पर लाभ के पद मामले में बड़ा फैसला किया था. चुनाव आयोग ने सभी 20 विधायकों को अयोग्य घोषित कर दिया था. इसके बाद चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को सिफारिश भेज दी थी.

राष्ट्रपति का फैसला आते ही दिल्ली की राजनीति फिर गर्मा गई है. कांग्रेस ने आम आदमी पार्टी पर हमला बोलते हुए कहा है कि दिल्ली सरकार ने नियमों को दरकिनार करते हुए 7 की जगह 21 मंत्री बनाए थे. कांग्रेस नेता अजय माकन ने कहा कि चुनाव आयोग ने आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों को अयोग्य घोषित किए जाने का सुझाव देरी से किया. इस मामले में देरी कर चुनाव आयोग ने आप की मदद की है. माकन ने कहा कि अगर ये फैसला एक महीने पहले लिया जाता तो आम आदमी पार्टी दो हिस्सों में टूट जाती.

आप को बता दें कि आप के 20 विधायकों ने मंत्री पद की सुविधाएं लेकर लाभ का पद 13 मार्च 2015 को ग्रहण किया था, लेकिन अभी तक ये सभी विधायक बने हुए हैं, जबकि लाभ के पद पर रहने के कारण उनकी विधानसभा से सदस्यता रद्द हो जानी चाहिए थी.

 

 

Tags


Comments

Leave A comment