कर्नाटक में बजा चुनावी बिगुल, 12 मई को वोटिंग तो 15 मई को आएंगे नतीजे

  • March 28, 2018
Share:

आखिरकार कर्नाटक में चुनावी बिगुल बज चुका है। चुनाव आयोग के ऐलान के मुताबिक कर्नाटक में 224 विधानसभाओं के लिए 12 मई को वोटिंग होगी जबकि मतगणना 15 मई को होगी। राज्य में कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी में कड़ी टक्कर होगी। चलिए आपको बताते हैं वो पांच खास बातें जो आपको जाननी चाहिएं।

1. कर्नाटक में 224 सीटों के लिए मतदान होगा। बता दें कि राज्य में सरकार गठन के लिए किसी भी दल को 113 सीटों की दरकार होती है। मौजूदा समय में सत्तासीन कांग्रेस के पास 122 सीटें हैं जबकि बीजेपी के पास 43 और जेडीएस के हिस्से 37 सीटें हैं। बता दें कि कर्नाटक की कुल आबादी 6 करोड़ है जिसमें 4.90 करोड़ पंजीकृत मतदाता हैं।

2.चुनाव आयोग ने ऐलान किया है कि कर्नाटक में एक ही चरण में 12 मई तो मतदान होगा। चुनाव के लिए 17 अप्रैल को अधिसूचना जारी की जाएगी। उम्मीदवार 27 अप्रैल तक अपना नाम वापस ले पाएँगे। सबसे खास बात ये है कि चुनाव आयोग के ऐलान के साथ ही कर्नाटक में आचार संहिता लागू हो गई है। रात 10 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक लाउस्पीकर पर बैन रहेगा। चुनाव में एक उम्मीदवार की खर्च सीमा 28 लाख रुपये है।

3. कर्नाटक में मतदान के लिए 56 हजार पोलिंग बूथ स्थापित किए जाएंगे जिनमें दिव्यांगों के लिए खास व्यवस्था होगी। इस बार के चुनाव में 450 से ज्यादा पोलिंग बूथों की व्यवस्था महिलाओं के जिम्मे दी जाएगी।

4. सूबे की 224 सीटों वाली विधानसभा में से 100 सीटों पर लिंगायत समुदाय का कब्जा है। सूबे की करीब 17 प्रतिशत आबादी लिंगायत समुदाय से ताल्लुक रखती है। कर्नाटक के उत्तरी हिस्से में लिंगायत का पूरा सपोर्ट बीजेपी के पक्ष में रहता है। ऐसे में इस बार के चुनाव में भी लिंगायत समुदाय की अहम भूमिका होगी

5. कर्नाटक में जातीय आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो यहां आबादी के मुताबिक दलित 19 फीसदी हैं जबकि लिंगायत 17 फीसदी के करीब हैं। दूसरी तरफ वोक्कालिंगा 11, अनुसूचित जनजाति 5, मुसलमान 16 और कुरुबा 7 जबकि ओबीसी 16 प्रतिशत और ब्राह्मण 3 फीसदी हैं।

तस्वीर साभार-पत्रिका

Tags


Comments

Leave A comment