ईडी की जांच से हुआ खुलासा, नोटबंदी के बाद मायावती समेत कई नेताओं ने करोड़ों का किया संदिग्ध लेन देन

500 note new (750 x 425)
  • November 10, 2017
Share:

नोटबंदी को एक साल पूरा हो चुका है. इस मामले में ईडी की जांच अभी भी चल रही है. 8 नवंबर 2016 को हुई नोटबंदी के बाद काले धन को सफेद करने के गोरखधंधे के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय की जांच में दर्जनों नेताओं और अफसरों के नाम का खुलासा हुआ है.

ईडी ने जो जांच की है उसके मुताबिक बीएसपी प्रमुख मायावती, लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा यादव, खनन उद्यमी और तमिलनाडु की राजनीति में गहरी पैठ रखने वाले शेखर रेड्डी समेत दर्जनों नेताओं के पैसे के संदिग्ध लेन-देन का ब्यौरा मिला है. इसके अलावा दो दर्जन से ज्यादा अफसरों और निजी व्यक्तियों के खिलाफ जांच तेजी से चल रही है.

ईडी के डोजियर के मुताबिक इन सभी ने कालेधन को सफेद करने की कोशिश की है, जांच में काले धन को सफेद करने के 4000 ठोस मामले सामने आए हैं. आप को बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय ने  नवंबर 2016 से सितंबर 2017 के बीच इन सभी मामलों में फेमा और पीएमएलए के तहत केस दर्ज किया है.

ईडी के डोजियर के मुताबिक अब तक 11000 करोड़ रुपए की हेरफेर के प्रमाण मिल चुके है. इसको लेकर ईडी ने अबतक 800 रेड की हैं जिनमें देश और विदेशों के मनी ट्रांस्फर के गोरखधंधे का पता चला है.

 

Tags


Comments

Leave A comment