हरियाणा में भी बैन हुई फिल्म ‘पद्मावत’, अब तक चार राज्य सरकारों ने फिल्म को किया बैन

  • January 16, 2018
Share:

संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावती’ पर आए संकट के बादल छंटने का नाम नहीं ले रहे है. फिल्म पद्मावती अब पद्मावत नाम से 25 जनवरी को रिलीज होगी. लेकिन उससे पहले कई राज्य सरकारों ने इस फिल्म को बैन कर दिया है. मंगलवार को हरियाणा सरकार ने भी फैसला किया है कि राज्य में फिल्म पद्मावत पर बैन रहेगा. इससे पहले राजस्थान, मध्यप्रदेश और गुजरात में फिल्म पर बैन लग चुका है.

रिलीज से पहले करोड़ों का नुकसान

फिल्म की रिलीज डेट सामने आने के बाद करणी सेना एक बार फिर उठ खड़ी हुई है, वहीं कई राज्यों में फिल्म को बैन कर दिया गया है. ऐसे में भंसाली को फिल्म को रिलीज से पहले ही करोड़ों का नुकसान हो चुका है.

आप को बता दे की फिल्म पद्मावत 250 करोड़ रुपये के भारी भरकम बजट में बनी है. फिल्म को एक राज्य से कम से कम 20 करोड़ रुपये का कारोबार होना था, लेकिन 4 राज्यों में बैन होने से 80 करोड़ का नुकसान तो पहले ही हो गया है.

करणी सेना का प्रदर्शन

पिछले हफ्ते करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने मुंबई में सेंसर बोर्ड ऑफिस का घेराव किया. कार्यकर्ताओं ने कहा है कि नाम बदलने से कुछ नहीं होगा, पूरी फिल्म को बैन किया जाए. पुलिस ने कुछ कार्यकर्ताओं को हिरासत में भी लिया है.

सिनेमाघरों में लगा देंगे आग

करणी सेना ने कहा है कि अगर फिल्म को रिलीज किया गया तो वह सिनेमाघरों में आग लगा देंगे. करणी सेना ने धमकी देते हुए कहा है कि नाम बदल देने से कुछ नहीं होता, फिल्म किसी भी हालत में रिलीज नहीं होने दी जाएगी. करणी सेना ने कहा है कि सेंसर बोर्ड ने हमें अंधेरे में रखा है ऐसे में फिल्म रिलीज नहीं होने दी जाएगी. वहीं एक राजपूत नेता ने कहा है कि अगर नाम बदलने से बदलाव आता है तो फिर पेट्रोल का नाम बदलकर गंगाजल रख देंगे.

करणी सेना की नाराजगी कायम

फिल्म को लेकर सेंसर बोर्ड के बदलाव पर जहां करणी सेना ने सवाल उठाए हैं वहीं मेवाड़ राजघराने ने भी सवाल खड़े कर दिए है. प्रसून जोशी पर अंधेरे में रखने का आरोप लगा चुकी करणी सेना ने उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. करणी सेना ने कहा है कि प्रसून जोशी को तुरंत सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष पद से हटाया जाए. करणी सेना ने कहा है कि प्रसून जोशी ने हमें अंधेरे में रखा है.

Tags


Comments

Leave A comment