पुलिस की इजाजत के बिना जिग्नेश ने की हुंकार रैली, रैली में बोला कन्हैया, कहा- बीजेपी रामराज्य नहीं, रावण राज चाहती है

  • January 9, 2018
Share:

दिल्ली में जिग्नेश मेवाणी ने पुलिस की इजाजत के बिना भी हुंकार रैली की है. जिग्नेश मेवाणी की इस रैली में बड़ी संख्या में लोग पहुंचे है. इस दौरान जेएनयू के छात्र कन्हैया, जिग्नेश मेवाणी, अखिल गोगोई, उमर खालिद और शहला राशिद समेत हजारों लोग युवा हुंकार रैली और जनसभा के लिए संसद मार्ग पहुंचे.

रैली को संबोधित करते हुए जेएनयूएसयू के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने कहा है कि बीजेपी की सरकार गरीबों, दलितों को दबाने का काम कर रही है. कन्हैया ने कहा है है कि बीजेपी राम राज्य नहीं बल्कि रावण राज्य चाहती है. कन्हैया ने कहा कि मीडिया लोकतंत्र का चौथा खंभा है, लेकिन उसे भी निशाना बनाया जा रहा है. हम किसी के खिलाफ नहीं है, हम सिर्फ समानता चाहते है.

इस दौरान वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने भी लोगों को संबोधित किया. प्रशांत भूषण ने कहा कि पुलिस ने रैली रोक‍ने के लिए परमिशन नहीं दी. इसलिए भीड़ कम है, लेकिन एक नई शुरुआत है. भूषण ने कहा है कि एक झूठी राजनीति के खिलाफ एक नई ताकत खड़ी हो रही है, यह आगे कहां तक पहुंचेगी, यह देखना होगा.

रैली में पहुंचे उमर खालिद ने भी सरकार के खिलाफ आवाज उठाते हुए कहा कि पीएम मोदी हमारे सवालों का जवाब क्यों नहीं देते. उमर खालिद ने कहा कि‍ सीएम योगी ने दलितों को जाकर शेंपू और साबुन बांटें, यह दलितों का अपमान है और इसी के खिलाफ चंद्रशेखर लड़ाई लड़ रहे हैं.

जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी छात्रसंघ की पूर्व उपाध्यक्ष और लेफ्ट छात्र नेता शहला राशिद ने कहा था कि डीसीपी सर, रैली तो वहीं कराएंगे. वहीं मशहूर वकील प्रशांत भूषण ने कहा है कि एनजीटी का आदेश जंतर मंतर के लिए है ना कि पार्लियामेंट स्ट्रीट के लिए

Tags


Comments

Leave A comment