मैं हिंसा वाली जगह पर नहीं गया, मेरे भाषण में कुछ भी भड़काऊ नहीं, 2019 में बीजेपी को सबक सिखाएंगे: जिग्नेश मेवाणी

  • January 5, 2018
Share:

पुणे में भीमा-कोरेगांव हिंसा को लेकर गुजरात से निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी और जेएनयू के छात्र रहे उमर खालिद के खिलाफ पुणे में एफआईआर दर्ज की गई है. पुलिस ने दोनों के खिलाफ सर्च वारंट भी जारी किया है. पुलिस दोनों की तलाश कर रही है.

इस बीच जिग्नेश मेवाणी ने आगे आकर बीजेपी पर हमला बोला है. जिग्नेश ने कहा है कि बीजेपी मुझ से डर रही है इस लिए मुझ पर गलत आरोप लगा रही है. जिग्नेश ने कहा कि मुझ पर हिंसा वाली जगह पर जाने, वहां भड़काऊ भाषण देने का आरोप लगाया जा रहा है, लेकिन मैने कोई भड़काऊ भाषण नहीं दिया था, ना मैं हिंसा वाली जगह पर गया था.

जिग्नेश ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि क्या दलितों को शांतीपूर्ण रैली का अधिकार नहीं है. पीएम बताएं कि दलितों को अधिकार है या नहीं. मेवाणी ने कहा कि बीजेपी मुझ से डर रही है और हम 2019 में बीजेपी को सबक सीखाएंगे.

जिग्नेश पर भड़ताऊ भाषण देने का आरोप

दोनों पर पुणे में हुए भीमा-कोरेगांव की 200वीं सालगिरह पर हुए कार्यक्रम में भड़काऊ भाषण देने का आरोप है. मेवाणी और छात्र नेता उमर खालिद पर सेक्शन 153(A), 505, 117 के तहत पुणे में एफआईआर दर्ज हुई है.

इस हिंसा को लेकर पुणे के दो युवा अक्षय बिक्कड और आनंद डॉन्ड ने पुणे के डेक्कन पुलिस स्टेशन में जिग्नेश मेवानी और जेएनयू के छात्र उमर खालिद के खिलाफ लिखित में शिकायत की थी. शिकायत में कहा गया है कि जिग्नेश मेवानी और उमर खालिद ने कार्यक्रम के दौरान भड़काऊ भाषण दिया था. शिकायत में कहा गया है कि जिग्नेश और खालिद के भाषण के बाद ही हिंसा फेैली है इसलिए दोनों पर एफआईआर दर्ज की जाना चाहिए.

शिकायत में कहा गया है कि भाषण के दौरान जिग्नेश मेवानी ने एक खास वर्ग को सड़क पर उतर कर विरोध करने के लिए कहा था. इसके बाद ही लोग सड़कों पर उतर आए और फिर धीरे-धीरे भीड़ ने हिंसक रूप ले लिया.

Tags


Comments

Leave A comment