मैं सुन्नी वक्फ बोर्ड का वकील नहीं, भगवान राम की मर्जी से ही बनेगा मंदिर- कपिल सिब्बल

kapil (750 x 425)
  • December 7, 2017
Share:

68 साल पुराने राम मंदिर बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में हुई सुनवाई ने एक नई बहस को जन्म दे दिया है. सुनवाई के दौरान सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से कपिल सिब्बल ने कोर्ट से मांग की है कि इस मामले की सुनवाई को 2019 लोकसभा चुनाव तक टाला जाना चाहिए. कपिल सिब्बल ने कहा कि मामले की सुनवाई 2019 में होने वाले आम चुनाव के बाद शुरू की जानी चाहिए.

लेकिन कपिल सिब्बल अपने इन तर्कों से मुश्किल में आ गए है. कपिल सिब्बल की इन बातों पर सुन्नी वक्फ बोर्ड में भी मतभेद नजर आ रहा है. इस बीच सिब्बल ने इस मसले पर अपनी चुप्पी तोड़ी है. सिब्बल ने कहा है कि पीएम मोदी और बीजेपी मुझ पर हमला बोलने से पहले तथ्यों की अच्छे से जांच पड़ताल कर ले. सिब्बल ने कहा कि पीएम मोदी और बीजेपी को पता ही नहीं है कि मैं सुन्नी वक्फ बोर्ड का वकील कभी नहीं रहा हूं.

सिब्बल ने कहा कि ना ही मैंने वक्फ बोर्ड के वकील की हैसियत से बाबरी मस्जिद और राम मंदिर विवाद मामले की सुनवाई 2019 के बाद करने की मांग की थी. कपिल सिब्बल ने कहा है कि अयोध्या में राम मंदिर तब बनेगा जब भगवान श्री राम चाहेंगे. इसे बीजेपी या पीएम मोदी नहीं बनवा सकते. सिब्बल ने कहा कि भगवान राम में मेरी भी आस्था है.

Tags


Comments

Leave A comment