कब तक रहेगा येदियुरप्पा के सिर पर कर्नाटक का ताज, ‘सुप्रीम’ फैसला आज

  • May 18, 2018
Share:

बीएस येदियुरप्पा ने सिर पर लटकती राजनीतिक अनिश्चितता की तलवार के साथ बृहस्पतिवार को तीसरी बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की कुर्सी संभाल ली। उन्हें गुरुवार सुबह नौ बजे राज्यपाल वजुभाई वाला ने पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। बहुमत के जादुई आंकड़े से दूर रहने के बावजूद राज्यपाल ने बुधवार देर शाम को येदियुरप्पा को विधानसभा में सबसे बड़ी पार्टी के नेता के तौर पर सरकार बनाने का न्योता दिया था।

राज्य में भाजपा के सबसे कद्दावर नेता येदियुरप्पा ने किसानों और ईश्वर के नाम पर अकेले शपथ ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हुए। येदियुरप्पा को शपथ दिलाए जाने को जहां कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकतंत्र की हत्या करार दिया, वहीं शाह ने कहा कि जदएस से गठबंधन करके अवसरवादी कांग्रेस ने प्रजातंत्र का गला घोंटा है। इस बीच, नवनियुक्त मुख्यमंत्री ने कहा कि वे बहुमत साबित करने को लेकर 100 फीसदी आश्वस्त हैं और इसके लिए वे 15 दिन का इंतजार नहीं करेंगे।

इससे पहले उन्हें शपथ लेने से रोकने के लिए कांग्रेस और जेडीयू ने बुधवार को रात 10 बजे सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। बुधवार देर रात से बृहस्पतिवार सुबह लगभग छह बजे तक चली सुनवाई के बाद शीर्ष अदालत ने राज्यपाल के फैसले में दखल देने से इनकार कर दिया, लेकिन भाजपा से कहा कि वह सरकार बनाने के दावे के साथ राज्यपाल को दिए गए पत्र को पेश करें। कोर्ट ने यह भी स्पष्ट किया कि येदियुरप्पा का कुर्सी पर बने रहना उसके फैसले पर निर्भर करेगा। इसके बाद सुनवाई शुक्रवार सुबह दस बजे के लिए टाल दी गई।

 

Tags


Comments

Leave A comment