मालदीव में बड़ा राजनीतिक संकट, राष्ट्रपति ने घोषित की इमरजेंसी, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस और पूर्व राष्ट्रपति गिरफ्तार

  • February 6, 2018
Share:

मालदीव में बड़ा राजनीतिक संकट खड़ा हो गया है. राष्ट्रपति और सुप्रीम कोर्ट के राजनीतिक गतिरोध के बीच देश में इमरजेंसी घोषित कर दी गई है. मालदीव के राष्ट्रपति अब्दुल्ला यमीन ने देश में आपातकाल लगा दिया है.

देश में इमरजेंसी घोषित होते ही सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस अब्दुल्ला सईद, जज अली हमीद और पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल गयूम को गिरफ्तार कर लिया गया है. इमरजेसी को लेकर मालदीव के आंतरिक मामलों के मंत्री ने कहा है कि देश में अभी 15 दिनों तक आपातकाल रहेगा. इस बीच मालदीव ने भारत से मदद मांगी है. वहीं भारत ने अपने नागरिकों को मालदीव जाने से बचने की सलाह दी है. मालदीव में सेना हाई अलर्ट पर है. सेना ने सुप्रीम कोर्ट को भी घेर रखा है.

क्या है मामला?

मालदीव में सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रपति के बीच टकराव की स्थिति बन गई है. जिसको लेकर मालदीव की जनता सड़कों पर उतर आई है. दरअसल मालदीव की सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन को नौ राजनीतिक कैदियों को रिहा करने और असंतुष्ट 12 सांसदों को बहाल करने का आदेश दिया है. लेकिन राष्ट्रपति ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को मानने से इंकार कर दिया है.

मालदीव में सरकार इससे पहले भी सुप्रीम कोर्ट के आदेश को मानने से इंकार कर चुकी है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि आदेश को तुरंत अमल में लाया जाए. सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश अबदुल्ला सईद ने साफ आदेश दिया है कि असंतुष्टों को तुरंत रिहा किया जाना चाहिए, क्योंकि उनके खिलाफ मुकदमा राजनीति और दुर्भावना से प्रेरित था.

Tags


Comments

Leave A comment