राम मंदिर पर शिया वक्फ बोर्ड और हिंदू पक्षकारो के बीच सहमति बनी, 15-16 नवंबर को अदालत में जमा करेंगे समझौते की कॉपी

ram (750 x 425)
  • November 13, 2017
Share:

अयोध्या में राम मंदिर मुद्दे को लेकर शिया वक्फ बोर्ड और हिंदू पक्षकारों के बीच सहमति बन गई है. अब शिया वक्फ बोर्ड 15-16 नवंबर को अदालत में समझौते की कॉपी जमा करेगा. शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी के मुताबिक दोनों पक्षों में इस बात पर सहमति बनी है कि मस्जिद अयोध्या और फैजाबाद के बाहर बनाई जाएगी. दोनों पक्षों में सहमति हुई है कि राम मंदिर पहले से तय जगह पर ही बनेगा. इसके अलावा जो मस्जिद बनेगी उसका नाम बाबरी मस्जिद नहीं होगा. वहीं इस मामले में मध्यस्थता की भूमिका निभा रहे श्री श्री रविशंकर ने कहा है कि अभी तक की बातचीत सकारात्मक रही है और मैं परसों अयोध्या जा रहा हूं.

श्री श्री रविशंकर की मध्यस्थता स्वीकार नहीं- हिंदू महासभा

राम मंदिर मसले को सुलझाने के लिए मध्यस्थता की भूमिका निभा रहे आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर को लेकर हिंदू महासभा ने कई सवाल खड़े किए है. हिंदू महासभा ने कहा है कि श्री श्री रविशंकर राम मंदिर मसले में मध्यस्थता नहीं कर सकते और न ही उन्हें ये अधिकार है. हिंदू महासभा ने इसे राजनीति से प्रेरित कदम बताया है.

हिंदू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने कहा है कि जब श्री श्री रविशंकर कोई पक्षकार नहीं है तो फिर मध्यस्थ कैसे हो सकते है. मुन्ना कुमार ने कहा है कि हिंदू महासभा राम मंदिर मामले में श्रीश्री रविशंकर की मध्यस्थता का विरोध करती है. हिंदू महासभा ने कहा है कि श्री श्री कभी भी राम जन्मभूमि मामले से नहीं जुड़े रहे, न राम मंदिर आंदोलन का हिस्सा रहे है, उन्होंने न कभी मंदिर बनाने का प्रयास किया और न ही किसी आंदोलन में भाग लिया.

 

 

Tags


Comments

Leave A comment