राष्ट्रपति ने दोनों सदनों को किया संबोधित, कहा- देश में एक साथ कराएं जाएं चुनाव, तुष्टिकरण नहीं सशक्तिकरण सरकार का लक्ष्य

  • January 29, 2018
Share:

आज से संसद का शीत सत्र शुरू हो गया है. राष्ट्रपति के अभिभाषण के साथ बजट सत्र की शुरुआत हुई. सोमवार को राष्ट्रपति संसद ने दोनों सदनों को सेंट्रल हॉल में संबोधित किया. बतौर राष्ट्रपति यह रामनाथ कोविंद का पहला अभिभाषण था.

राष्ट्रपति के अभिभाषण में केंद्र सरकार की पिछले साल की उपलब्धियों के साथ साथ आगामी वित्तीय वर्ष के लिए सरकार के विज़न, योजनाओं और एजेंडे का खाका रखा गया है. संसद सत्र शुरू होने के बाद अब 1 फरवरी को वित्त मंत्री अरुण जेटली आम बजट पेश करेंगे.

राष्ट्रपति कोे अभिभाषण की अहम बातें-

-तुष्टिकरण नहीं सशक्तिकरण सरकार का लक्ष्य.

-एक साथ चुनाव कराने के लिए चर्चा होनी चाहिए, बार-बार चुनाव से देश के संसाधन पर असर पड़ता है.

-3.5 साल में महंगाई दर में कमी आई है.

-1428 अनावश्यक कानून समाप्त किए गए.

-अब भारत बिजली का निर्यातक बन गया है, नक्सली घटनाओं में आई है कमी.

-देश के 11 शहरों में मेट्रो विकास का काम जारी.

-अहमदाबाद को UNESCO ने हेरिटेज सिटी का दर्जा दिया.

-युवा को रोजगार के लिए कई योजनाएं चलाई जा रही हैं, 1 करोड़ लोगों को डिजिटल साक्षरता दी गई.

-गरीबो को घर बनाने के लिए ब्याज में 6% की कमी, स्टेंट के दाम में भी 80% कमी आई है.

-82% से ज्यादा गांव सड़क से जुड़े, 2022 तक सभी को घर देने की योजना पर काम जारी.

-1300 से ज्यादा महिलाएं बिना मेहरम हज जा रही हैं.

-सौभाग्य योजना में 4 करोड़ गरीबों को बिजली दी जा रही है.

-किसानों को सस्ती और सरल बीमा योजना का लाभ.

-तीन तलाक पर संसद जल्द बनाएगी कानून.

-जन धन योजना से 31 करोड़ गरीबों के खाते खुले.

-2018 का साल नए भारत के सपने को साकार करने के लिए.

Tags


Comments

Leave A comment