सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों की प्रेस कांफ्रेंस पर तीखी प्रतिक्रिया, किसी ने कहा सही, तो किसी ने बताया गलत

  • January 12, 2018
Share:

सुप्रीम कोर्ट के 4 वर्तमान जजों के प्रेस कांफ्रेंस करने और गंभीर आरोप लगाने के बाद सरकार में खलबली मच गई है. 4 जजों की तरफ से कही गई बातों पर कई बड़े नेताओं से लेकर बड़े वकीलों ने अपनी अपनी बात कही है.

जानिए किसने क्या कहा?

सुब्रमण्यम स्वामी- बीजेपी नेता और वकील सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि चारों जजों की आलोचना नहीं की जा सकती, क्यों कि वह अपना काम ईमानदारी से कर रहे है, सही मायने में ये सच्चे लोग है. स्वामी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ जजों का एक साथ आकर पीसी करना गंभीर मामला है, इस मामले में पीएम मोदी को तुरंत हस्तक्षेप करना चाहिए.

सलमान खुर्शीद- कांग्रेस नेता और वरिष्ठ वकील सलमान खुर्शीद ने कहा है कि ये बेहद दुखद है कि देश के सीनियर जजों को मीडिया के सामने आकर अपनी बात रखनी पड़ रही है.

प्रशांत भूषण- वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने कहा है कि जजों ने मीडिया के सामने आकर जो बात कही है उससे चीफ जस्टिस पर सवाल खड़े हो गए है. किसी को सामने आने की जरूरत थी जो चीफ जस्टिस के हाथों शक्तियों के हो रहे गलत इस्तेमाल का खुलासा कर सके.

केटीएस तुलसी- वरिष्ठ वकील केटीएस तुलसी ने कहा है कि जजों ने जिस तरह से अपनी बात रखी है उनके चेहरे पर दर्द साफ दिख रहा है. तुलसी ने कहा कि हम मांगों को अनसुना किए जाने की बातों का समर्थन नहीं करते, इससे सुप्रीम कोर्ट की छवि पर सवाल खड़े हुए है.

रिटायर्ड जस्टिस आर.एस सोधी- सोधी ने कहा है कि इन 4 जजों को अब फैसले सुनाने का कोई हक नहीं है. 4 जजों का ये अपरिपक्व और बचकाना व्यवहार है.

पूर्व कानून मंत्री अश्विनी कुमार- अश्विनी कुमार ने कहा है कि ये न्यायपालिका की छवि के लिए बड़ा नुकसान है.

उज्ज्वल निकम- वरिष्ठ वकील उज्जवल निकम ने इसे गंभीर मामला बताते हुए कहा है कि आज का दिन भारत की न्याय व्यवस्था के लिए काला दिन है.

इंदिरा जयसिंह- वरिष्ठ वकील इंडिया जयसिंह ने कहा है कि ये ऐतिहासिक PC थी, जनता को ये जानने का हक है कि न्यायपालिका में क्या चल रहा है.

हार्दिक पटेल- पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने कहा है कि देश में मैं चोर, मैं पुलिस, मैं ही न्यायाघीश का राज है, चौकीदार ही चोर.

डी. राजा- सीपीआई नेता डी राजा ने कहा है कि जजों ने जो कदम उठाया है वह असाधारण है, और यह न्यायपालिका के गहरे संकट को दर्शाता है.

अमिताभ सिन्हा- बीजेपी नेता अमिताभ सिन्हा ने कहा है कि जजों को एक्ट‍िविज्म करना हो तो इस्तीफा देकर जनता के दरबार में जाएं.

 

Tags


Comments

Leave A comment