दो बालिगों को अपनी मर्जी से शादी करने का अधिकार, तीसरे को दखल का अधिकार नहीं- सुप्रीम कोर्ट

  • February 5, 2018
Share:

सुप्रीम कोर्ट ने आज ऑनर के एक मामले पर सुनवाई करते हुए अहम टिप्पणी की है. सुप्रीम कोर्ट ने ऑनर किलिंग के एक मामले पर सुनवाई करते हुए खाप पंचायतों की तरफ से कानून अपने हाथ में लेने पर सख्त टिप्पणी की है.

कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा है कि वह जोड़े को इन खाप कार्रवाईयों से बचाए. मामले की सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा ने कहा है कि दो बालिकों को अपनी मर्जी से शादी करने का पूरा अधिकार है और तीसरी शख्स इसमें दखल नहीं दे सकता.

कोर्ट ने कहा है कि परिवार, समाज या फिर और कोई, किसी को इस मामले में दखल देने का अधिकार नहीं है. इस मामले पर 16 फरवरी को अगली सुनवाई होगी. सुप्रीम कोर्ट ने अहम टिप्पणी करते हुए कहा है कि वह एक उच्चस्तरीय समिति बनाने पर विचार कर रहा है जिसके तहत अंतरजातीय और अंतरधर्म में शादी करने वाले जोड़े की सुरक्षा सुनिश्चित किया जा सकेगा.

Tags


Comments

Leave A comment