सरकार ने फिर कसी कमर, बजट सत्र में राज्यसभा से ट्रिपल तलाक बिल को पास कराने की कोशिश

  • January 29, 2018
Share:

आज से संसद का बजट सत्र शुरू हो गया है. सरकार इस सत्र में एक बार फिर ट्रिपल तलाक बिल को पास कराने की कोशिश करेगी. इसको लेकर पीएम मोदी ने संकेत भी दे दिए है. पीएम मोदी ने कहा है कि ट्रिपल तलाक बिल को पास कराने के लिए सभी दल सहयोग दें.दरअसल शीत सत्र में सरकार ने ट्रिपल तलाक बिल को लोकसभा से पास करा लिया था, लेकिन विपक्ष ने इसे राज्यसभा में अटका दिया था.

शीत सत्र में अटका ट्रिपल तलाक बिल 

मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक 2017 को सरकार राज्यसभा में पास नहीं करा पाई थी. कई दिनों की मेहनत के बाद सरकार ने इस बिल को लोकसभा में तो पास करा लिया था, लेकिन जब राज्यसभा की बारी आई तो ना इस बिल पर  चर्चा हो पाई है और ना ये बिल पास हो पाया.

जेटली ने साधा निशाना

बिल पर बहस के दौरान कांग्रेस और समाजवादी पार्टी ने कहा कि इस बिल को सेलेक्ट कमेटी को भेजा जाए. इसपर सरकार की तरफ से जेटली ने कहा था कि विपक्ष सुधार के बहाने बिल को लटकाने की कोशिश कर रहा है. जेटली ने कहा था कि कांग्रेस तीन तलाक बिल को बर्बाद करना चाहती है.

बिल महिलाओं के खिलाफ- गुलाम नबी आजाद

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने सदन में कहा था कि तीन तलाक बिल महिलाओं के खिलाफ है. आजाद ने कहा कि सरकार जिस बिल को लेकर आई है हम उसके खिलाफ है. कांग्रेस नेता ने कहा कि अगर महिला के पति को ही जेल में डाल दिया जाएगा तो उसका खर्चा कौन देखेगा, उसे कौन खिलाएगा? साथ ही विपक्ष ने संशोधन पर मत विभाजन की मांग की है.

समाजवादी पार्टी के सांसद नरेश अग्रवाल ने कहा था कि बिल को सभापति सेलेक्ट कमेटी के लिए भेजने का प्रस्ताव मंजूर करें ताकि पूरे सदन की राय पता चले.

सेलेक्ट कमेटी को भेजा जाए बिल- आनंद शर्मा

शीत सत्र के दौरान राज्यसभा में कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने विपक्षी पार्टियों के सदस्यों के नाम उपसभापति को दिए जो सेलेक्ट कमिटी में होंगे. इसपर शर्मा ने कहा कि अब सरकार अपने सदस्यों के नाम बताए. कांग्रेस ने कहा कि सेलेक्ट कमिटी बजट सत्र के दौरान अपने सुझाव सौंपेगी.

 

 

Tags


Comments

Leave A comment