सरकार ने राज्यसभा में पेश किया ट्रिपल तलाक बिल, कांग्रेस-टीएमसी की मांग- सेलेक्ट कमेटी को भेजा जाए बिल

  • January 3, 2018
Share:

लोकसभा में मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक 2017 पास होने के बाद आज सरकार ने इस बिल को राज्यसभा में भी पेश कर दिया है. बिल को लेकर कांग्रेस और टीएमसी ने कहा है कि इस बिल को सेलेक्ट कमेटी को भेजा जाना चाहिए. राज्यसभा में मोदी सरकार के सामने मुश्किल चुनौती है. सरकार अगर इस बिल को राज्यसभा में पास करा लेती है तो राष्ट्रपति के हस्ताक्षर होने के बाद यह विधेयक कानून बन जाएगा.

आप को बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र अपने अंतिम पड़ाव पर है उससे पहले सरकार इस बिल को हर हाल में राज्यसभा मेें पास कराया चाहती है. हालाकि विपक्ष के रूख को देखकर सरकार की राह काफी मुश्किल नजर आती है.

राज्यसभा में इस बिल पर चर्चा शुरू हो गई है. बीजेपी के सामने मुश्किल ये है कि उसके पास राज्यसभा में बहुमत नहीं है. कई विपक्षी दलों ने इस बिल का विरोेध किया है. ऐसे में बीजेपी को इस बिल को पास कराने के लिए सबका साथ चाहिए होगा. अब सरकार के लिए राज्यसभा से इस बिल को पारित कराना बड़ी चुनौती है.

लोकसभा में पास

बिल के पास होते ही कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मेज थपथपाकर खुशी जाहिर की.पूरे दिन इस पर सभी पार्टियों ने अपनी अपनी राय रखी थी. जिसके बाद लोकसभा में ट्रिपल तलाक बिल पास हो गया है. अब इस बिल को राज्यसभा में रखा जाएगा.

लोकसभा में इस बिल को कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पेश किया. रविशंकर प्रसाद ने बिल को पेश करते हुए कहा कि आज ऐतिहासिक दिन है. रविशंकर प्रसाद ने कहा कि जो लोग महिलाओं के मौलिक अधिकारों की बात करते है, महिलाओं की बराबरी की बात करते है, आखिरी क्या वजह है कि वह इस बिल का विरोध कर रहे है. रविशंकर प्रसाद ने संसद में कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने भी ट्रिपल तलाक को गलत बताया है.

Tags


Comments

Leave A comment